धर्म विशेष के लोगों को अवैध रूप से बसा कर उनका शोषण करना कांग्रेस की प्रवृत्ति : राजीव जेटली

जमाई कालोनी के मुद्दे पर भाजपा प्रवक्ता ने कांग्रेसी नेताओं को घेरा

फरीदाबाद। बडखल विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली जमाई कालोनी में तोडफ़ोड़ का मामला सुप्रीमकोर्ट में पहुंचने के बाद अब यह राजनैतिक रूप लेता जा रहा है। अदालत के रूख पर कांग्रेसी नेता लोगों की वाहवाही लूटने में जुट गए है वहीं दूसरी ओर भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली ने कांगे्रसी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि धर्म के नाम पर लोगों को अवैध रूप से बसाना और उनका शोषण करना कांग्रेस की प्रवृत्ति रही है। यहां जारी प्रेस बयान में श्री जेटली ने कहा कि जमाई कालोनी कांग्रेस शासनकाल में बाहर से लोगों को लाकर उनके निकाह यहाँ करवाकर वन विभाग की जमीन पर जमाई कालोनी के नाम पर बसा दिया और उनका इस्तेमाल वोट बैंक के रूप में किया गया, लेकिन उन लोगों को यह नहीं पता था कि जहां वह अपने आशियाने बना रहे है, वह सरकारी जमीन है। कांग्रेस विधानसभा की डिमोग्रफ़ी को धार्मिक आधार पर बदलना चाहती है, जो कि गलत है। राजीव जेटली ने कहा कि आज जो कांग्रेसी नेता इन लोगों के हितैषी होने का दावा करते है, उस समय वह कहां थे, जब इन्हें अवैध तरीके से बसाया गया, अगर वह उनके सच्चे हितैषी होते तो उन्हें ऐसी जगह बसाकर उन्हें तमाम सुविधाएं देते, जहां भविष्य में उनके आशियाने पर तोडफ़ोड़ की तलवार न लटकती। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार में नेताओं ने कमीशन लेकर इन गरीब लोगों को सरकारी जमीनों पर बसाना और इनके साथ भद्दा मजाक किया, कांग्रेस तुष्टीकरण की राजनीति करती है, जो कि गलत है। उन्होंने कहा कि सुप्रीमकोर्ट का निर्णय आया है, उस पर अधिकारी काम कर रहे है और आगे भी जो निर्णय होगा, उसे अमल में लाया जाएगा इसलिए कांग्रेसी नेता इस मामले में झूठी वाहवाही लूटकर गरीबों के जख्मों पर नमक छिडक़ने का काम न करे।