जम्मू-कश्मीर: कोरोना की पाबंदियां हटते ही बढ़ने लगी वैष्णो देवी यात्रियों की संख्या, जयकारों से गूंजा मां का दरबार

Jammu मार्च माह से कोरोना महामारी के चलते सुस्त पड़ी मां वैष्णो देवी यात्रा में कोरोना कर्फ्यू हटते ही इजाफा होने लगा है। मई में जहां एक हजार से-डेढ़ हजार भक्त मां के दरबार में हाजिरी लगा रहे थे, वहीं जून में रोजाना का आंकड़ा दो से तीन हजार के बीच पहुंच गया है। इससे धर्मनगरी में रौनक बढ़ने लगी है वहीं, कारोबारियों के चेहरों पर भी खुशी लौटने लगी है। जानकारी के अनुसार शुक्रवार को 25 सौ के करीब भक्तों ने पंजीकरण करवा कर मां वैष्णो की प्राकृतिक पिंडियों के दर्शन किए थे वहीं शनिवार को साम सात बजे तक करीब 35 सौ भक्त भवन की ओर प्रस्थान कर चुके थे। कक्ष बंद होने तक आंकड़ा पांच हजार पार करने की संभावना है। ट्रेनें कम चलने से कम संख्या में ही यात्री धर्मनगरी पहुंच रहे हैं। अधिकतर भक्त निजी वाहनों से आ रहे हैं। अगर सोमवार से देश में कोरोना कर्फ्यू में और ढील दी जाती है तो यात्रा में इजाफा होने की संभावना है।

उधर, शनिवार को हेलिकॉप्टर और बैटरी कार सेवा बहाल रही, जिनका भक्तों ने लाभ उठाया है। इसके साथ ही मां वैष्णो के जयकारों से यात्रा मार्ग सहित धर्मनगरी फिर से गूंजने लगी है।

वर्तमान में जो भी थोड़े बहुत श्रद्धालु बाहरी राज्यों से मां वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए आ रहे हैं उनमें अधिकतर श्रद्धालु अपने निजी वाहनों द्वारा ही आधार शिविर कटड़ा पहुंच रहे हैं।

जानकारी के अनुसार कटड़ा पहुंचने वाली सभी ट्रेनें सुचारू होंगी तो दूसरी ओर जम्मू कश्मीर के प्रवेश द्वार लखनपुर से अंतर राज्य बसों का परिचालन सुगमतापूर्ण होगा तभी बाहरी राज्यों के श्रद्धालु बिना किसी परेशानी के मां वैष्णो देवी के अलौकिक दर्शनों के लिए आ सकेंगे।

वर्तमान में अधिकतम संख्या स्थानीय श्रद्धालुओं की है। वही मां वैष्णो देवी की यात्रा में बढ़ोतरी को लेकर व्यापारी वर्ग बेसब्री से इंतजार कर रहा है।